आज टूटेगा गुरूर चाँद का तुम देखना यारो

Chaand Shayari

तू चाँद और मैं सितारा होता, आसमान में एक आशियाना हमारा होता,
लोग तुम्हे दूर से देखते,नज़दीक़ से देखने का, हक़ बस हमारा होता..!!

You would be the moon and I would be the star, a house in the sky would be ours,
People will see you from a distance, to see you from a distance, the right is just ours .. !!

ऐ काश हमारी क़िस्मत में ऐसी भी कोई शाम आ जाए,
एक चाँद फ़लक पर निकला हो एक छत पर आ जाए।

I wish we had an evening like this
Get out on a moon panel and come on a roof.

आज टूटेगा गुरूर चाँद का तुम देखना यारो

आज टूटेगा गुरूर चाँद का तुम देखना यारो,
आज मैंने उन्हें छत पर बुला रखा है।

Today you will see Gurur Chand,
Today I have called them on the roof.

आसमान और ज़मीं का है फासला हर-चंद,
ऐ सनम दूर ही से चाँद सा मुखड़ा दिखला।

The distance between the sky and the land is everywhere,
Aye Sanam looked like a moon from a distance.

One thought on “आज टूटेगा गुरूर चाँद का तुम देखना यारो

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *