Khat Par Aansoo Bah Rahe Hain

Zindagi Shayari

Dekha Hai Zindagi Ko Kuchh Itne Qareeb Se,
Chehre Tamam Lagne Lage Hain Ajeeb Se.

देखा है ज़िंदगी को कुछ इतने क़रीब से,
चेहरे तमाम लगने लगे हैं अजीब से।

Jo Padha Hai Use Jeena Hi Nahi Hai Mumkin,
Zindagi Ko Main Kitabon Se Alag Rakhta Hoon.

जो पढ़ा है उसे जीना ही नहीं है मुमकिन,
ज़िंदगी को मैं किताबों से अलग रखता हूँ।

Khat Par Aansoo Bah Rahe Hain

Kabhi Aankhon Pe Kabhi Sar Pe Bithaye Rakhna,
Zindagi Nagavaar Sahi Dil Se Lagaye Rakhna.

कभी आँखों पे कभी सर पे बिठाए रखना,
ज़िंदगी नागवार सही दिल से लगाए रखना।

Kya Likhun Hakeekat-E-Dil Aarzoo Behosh Hai,
Khat Par Aansoo Bah Rahe Hain Kalam Khamosh Hai.

क्या लिखूं हकीकत-इ-दिल आरज़ू बेहोश है,
खत पर आंसू बह रहे हैं कलम खामोश है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *