Rahat indori shayari

Rahat indori shayari

  

If you’re a lover of Urdu poetry, you are sure to have heard of Rahat Indori shayari, one of the most prominent Urdu shayars of our country. His writing gives a refreshing perspective to our muddled lives and inspires us to stay put in the face of despair.

na ham-safar na kisī ham-nashīñ se niklegā

hamāre paañv kāñTā hamīñ se niklegā

अब ना मैं हूँ, ना बाकी हैं ज़माने मेरे​,
फिर भी मशहूर हैं शहरों में फ़साने मेरे​,
ज़िन्दगी है तो नए ज़ख्म भी लग जाएंगे​,
अब भी बाकी हैं कई दोस्त पुराने मेरे।

 

Loo Bhi Chalti Thi Toh Baad-e-Shaba Kehte The,
Paanv Failaye Andheron Ko Diya Kehte The,
Unka Anjaam Tujhe Yaad Nahi Hai Shayad,
Aur Bhi Log The Jo Khud Ko Khuda Kehte The.

 

हाथ ख़ाली हैं तेरे शहर से जाते जाते,
जान होती तो मेरी जान लुटाते जाते,
अब तो हर हाथ का पत्थर हमें पहचानता है,
उम्र गुज़री है तेरे शहर में आते जाते।

 

Chehron Ke Liye Aayine Kurbaan Kiye Hain,
Iss Shauk Mein Apne Bade Nuksaan Kiye Hain,
Mehfil Mein Mujhe Gaaliyan Dekar Hai Bahut Khush,
Jis Shakhs Par Maine Bade Ehsaan Kiye Hain.

Ab hum makaan ke tala lagaane wale hain
Pata chala hain ki mehaman aane wale hain

 

*****

आँखों में पानी रखों, होंठो पे चिंगारी रखो
जिंदा रहना है तो तरकीबे बहुत सारी रखो

 

तुफ्हानों से आँख मिलाओ सैलाबों पर वर करो
मल्लाहों का चक्कर छोड़ो तहर के दरिया पार करो
तुमको तुम्हारा फ़र्ज़ मुबारक हमको मुबारक अपना सुलूक
हम फूलों की शाकें तराशें तुम चाक़ू पर धार करो
फूलों की दुकाने खोलों खुशबु का व्यापार करो
इश्क खता है तो ये खता एक बार नहीं सौ बार करो

Rahat Indori Shayari

अगर खिलाफ है होने दो जान थोड़ी है
ये सब धुआँ है कोई आसमान थोड़ी है
लगेगी आग तो आएँगे घर कई जद में
यहाँ पे सिर्फ हमारा मकान थोड़ी है
हमारे मुह से जो निकले वही सदाकत
हमारे मुह में तुम्हारी जबां थोड़ी है
में जानत हूँ के दुश्मन भी कम नहीं लेकि
हमारी तरह हथेली पे जान थोड़ी है
जो आज साहिब-ए- मनसद है कल नहीं होंगे
किरायेदार है जाती मकान थोड़ी है
सभी का खून है यहाँ की मिटटी में
किसी के बाप का हिन्दुस्तान थोड़ी है
Rahat Indori Ghazals

Log Har Mod Par Rukh Rukh Ke Sabhalte Q Hai
Itna Darte Hai To Ghar Se Nikalte Q Hai
Mein Na Jugnu Ho Na Koi Tara Ho Ye Raushni Wale
Mere Naam Se Itna Jalte Q Hai

Sawal Wo Puch Rahe Hai Udaas Hone Ka
Mera Mizaaj Nahi Be Libaas Hone Ka
Naya Bahana Hai Har Pal Udaas Hone Ka
Ye Faida Hai Tere Ghar K Paas Hone Ka
Rahat Indori Poerty

Ab Mein Na Hun Na Baaki Hai Zamane Mere
Phir Bhi Mash Hur Hai Shayairon Mein Fasane Mere
Zindagi Hai To Naya Zakham Bhi Jayega
Abhi Aur Baaki Hai Kahi Dost Purane Mere
Rahat Indori Collection

Haath Khali Hai Tere Shehar Jate Jate
Jaan Hoti Meri Jaan Lutate Jate Jate
Ab To Har Patthar Mujhe Janta Hai
Ke Umar Gujardi Hai Tere Shahar Mein Aate Jate

Rahat Indori Shayari On Love

 

Charaghon Ka Ganara Chal Raha Hai
Hawaon Se Dostana Chal Raha Hai
Jawani Ki Hawaen Chal Rahi Hai
Meri Gum Gastagi Pe Hasne Walo
Mere Piche Zaman Chal Raha Hai

 

रोज़ पत्थर की हिमायत में ग़ज़ल लिखते हैं
रोज़ शीशों से कोई काम निकल पड़ता है

 

मैंने अपनी खुश्क आँखों से लहू छलका दिया,
इक समंदर कह रहा था मुझको पानी चाहिए।

 

बहुत ग़ुरूर है दरिया को अपने होने पर
जो मेरी प्यास से उलझे तो धज्जियाँ उड़ जाएँ

 

नए किरदार आते जा रहे हैं
मगर नाटक पुराना चल रहा है

 

राह के पत्थर से बढ के, कुछ नहीं हैं मंजिलें
रास्ते आवाज़ देते हैं, सफ़र जारी रखो

 

Rahat indori shayari

Rahat indori shayari

Aankhon mein paani rakho, hothon pe chingaari rakho
Jinda rahna hai to tarkibe bahut saari rakho

 

Raha ke patthar se badh ke kuch nahi hain manjilen
Raaste aawaz dete hain safar jaari rakho

 

*****

जागने की भी, जगाने की भी, आदत हो जाए
काश तुझको किसी शायर से मोहब्बत हो जाए

दूर हम कितने दिन से हैं, ये कभी गौर किया
फिर न कहना जो अमानत में खयानत हो जाए

 

Mein Jis Ki Khatir Mohabbaton Ki Har Ek Had Se Gujar Gaya
Wo Ab Bhi Mujh Se Ye Puchta Hai Ke Such Batao Wafa Kroge

 

Teri Har Baat Mohabbat Me Gawara Kr Ke
Dil Ke Bazaar Me Baithe Hai Kinara Kr Ke
Mein Wo Dariya Hun Ki Har Boond Bhawanr Hai Jiski
Tumne Sahi Mujhe Se Kinara Kr Ke

 

Rahat indori shayari

Rahat indori shayari

​तेरी हर बात ​मोहब्बत में गँवारा करके​,
​दिल के बाज़ार में बैठे हैं खसारा करके​,
​मैं वो दरिया हूँ कि हर बूंद भंवर है जिसकी​,​​
​तुमने अच्छा ही किया मुझसे किनारा करके।

 

Aankhon Mein Pani Rakho Hontho Pe Chingari Rakho,
Zinda Rahna Hai Toh Tarkeebein Bahut Saari Rakho,
Ek Hi Nadi Ke Hain Yeh Do Kinare Dosto,
Dostana Zindagi Se Maut Se Yaari Rakho.

 

अजीब लोग हैं मेरी तलाश में मुझको,
वहाँ पर ढूंढ रहे हैं जहाँ नहीं हूँ मैं,
मैं आईनों से तो मायूस लौट आया था,
मगर किसी ने बताया बहुत हसीं हूँ मैं।

 

Ajnabi Khwahishein Seene Mein Daba Bhi Na Sakun,
Aise Ziddi Hain Parinde Ke Uda Bhi Na Sakun,
Foonk Dalunga Kisi Roj Main Dil Ki Duniya,
Yeh Tera Khat To Nahi Ke Jala Bhi Na Sakun.

रोज़ तारों को नुमाइश में ख़लल पड़ता है,
चाँद पागल है अँधेरे में निकल पड़ता है,
रोज़ पत्थर की हिमायत में ग़ज़ल लिखते हैं,
रोज़ शीशों से कोई काम निकल पड़ता है।

 

Use Ab Ke Wafaon Se Gujar Jaane Ki Jaldi Thi,
Magar Iss Baar Mujhko Apne Ghar Jaane Ki Jaldi Thi,
Main Aakhir Kaun Sa Mausam Tumhare Naam Kar Deta,
Yehan Har Ek Mausam Ko Gujar Jaane Ki Jaldi Thi.

Two Line Shayari

मैंने अपनी खुश्क आँखों से लहू छलका दिया,
इक समंदर कह रहा था मुझको पानी चाहिए।

 

Bahut Guroor Hai Dariya Ko Apne Hone Par,
Jo Meri Pyaas Se Uljhe Toh Dhajjiyan Ud Jayein.

 

Aate Jate Hain Kayi Rang Mere Chehre Par,
Log Lete Hain Mazaa Zikr Tumhara Kar Ke.

Jagne ki bhi jagane ki bhi aadat ho jaye
Kash tujh ko bhi kisi shayer se mohbbt ho jaye

Door hum kitne dinno se hain ye kabhi gaur kiya
Fir na kehna jo ayanat me khayanat ho jaye

*****
सूरज, सितारे, चाँद मेरे साथ में रहें
जब तक तुम्हारे हाथ मेरे हाथ में रहें

शाखों से टूट जाए वो पत्ते नहीं हैं हम
आंधी से कोई कह दे की औकात में रहें

 

aban To Khol Najar To Mila Jawab To De
Mein Kitna Baar Luta Hun Hisaab To De
Tere Badan Ki Likhawat Mein Hai Utaar Chadhao
Mein Tujh Ko Kaise Padhunga Mujhe Koi Kitaab To De

Faisle Lamhaat K Nashlon Pe Bhari Ho Gaye
Baap Hakim Tha Par Bete Bikhari Ho Gaye

 

Gulaab Khuwaab Dawa Zehar Jaam Kiya Kiya Hai
Mein Aa Gaya Hu Bata Intezaam Kiya Kiya Hai
Fakir Shaah Kalandar Imaam Kiya Kiya Hai
Tujhe Pata Nahi Tera Gulaam Kiya Kiya Hai

RAHAT INDORI SHAYARI ON LOVE

रोज़ तारों को नुमाइश में ख़लल पड़ता है
चाँद पागल है अँधेरे में निकल पड़ता है

 

मैं आख़िर कौन सा मौसम तुम्हारे नाम कर देता
यहाँ हर एक मौसम को गुज़र जाने की जल्दी थी

 

बीमार को मरज़ की दवा देनी चाहिए
मैं पीना चाहता हूँ पिला देनी चाहिए

 

बोतलें खोल कर तो पी बरसों
आज दिल खोल कर भी पी जाए

RAHAT INDORI SHER O SHAYRI

Rahat indori shayari

मैं ने अपनी ख़ुश्क आँखों से लहू छलका दिया
इक समुंदर कह रहा था मुझ को पानी चाहिए

 

शाख़ों से टूट जाएँ वो पत्ते नहीं हैं हम
आँधी से कोई कह दे कि औक़ात में रहे

 

सूरज सितारे चाँद मिरे सात में रहे
जब तक तुम्हारे हात मिरे हात में रहे

 

कॉलेज के सब बच्चे चुप हैं काग़ज़ की इक नाव लिए
चारों तरफ़ दरिया की सूरत फैली हुई बेकारी है

 

Suraj, sitaare, chaand mere saath me rahe
jab tak tumhare haath mere haath me rahe

Shaakhon se toot jaaye wo patte nahi hain hum
Aandhi se koi kah de ki aukaat me rahe

 

गुलाब, ख्वाब, दवा, ज़हर, जाम  क्या क्या हैं
में आ गया हु बता इंतज़ाम क्या क्या हैं

फ़क़ीर, शाह, कलंदर, इमाम क्या क्या हैं
तुझे पता नहीं तेरा गुलाम क्या क्या हैं

 

Gulab, khwab, dawa, jaher, jaam, kya kya hain
mein aa gay hun bata ilzaam kya kya hain

Fakir, shaah, kalndar, imaam, kya kya hain
Tujhe pata nahi tera gulam kya kya hain

ham se pahle bhī musāfir kaī guzre hoñge

kam se kam raah ke patthar to haTāte jaate

कभी महक की तरह हम गुलों से उड़ते  हैं
कभी धुएं की तरह पर्वतों से उड़ते हैं

ये केचियाँ हमें उड़ने से खाक रोकेंगी
की हम परों से नहीं हौसलों से उड़ते हैं

For for shayari click here

Kabhi mahak ki tarah hum gulon se udate hain
kabhi dhuyen ki tarah parvaton se udate hain

Ye kechiya hume udne se khaak rokengi
Ki hum paro se nahi hoslon se udte hain

 

Saari Fitrat To Naqabon Mein Chupa Rakhi Thi
Sirf Tasveer Uzaale Mein Laga Rakhi Thi
Meri Gardan Pe Talwar Thi Duhsman Ki
Meri Bajuwon Pe Meri Maa Ki Duwayen Rakhi Thi

 

Yahan Imaam Likhte Hai Yahan Imaan Padthe Hain
Humein Kuch Aur Na Padhao Hum Quraan Padhte Hain
Rahat Indori Kavita

3

No Responses

  1. Pingback: Ghalib shayari - Amazing Motivation Quotes January 5, 2020

Write a response